संस्कृति और विरासत

पटना सांस्कृतिक रूप से समृद्ध प्राचीन शहर है | इस का गौरवशाली इतिहास 600 ईसा पूर्व से आरंभ हो गई थी | इसने सम्राट अशोक का शासन देखा, मौर्य कालीन गौरव देखा जब चन्द्र गुप्त ने भारत कि सीमाएं काबुल तक पहुचाई, चाणक्य की राजनीती और अर्थशास्त्र देखा, बुद्ध और जैन धर्म का ज्ञान और प्रसार देखा यहाँ के रहन सहन कि चर्चा चीनी यात्रियों व्हेनसांग और फाहियान के यात्रा वृतान्तो में मिलता है | सिखों के दसवे और अंतिम गुरु गोविन्द सिंह का जन्मस्थल है | मुस्लिम शासनकाल में यह फारसी की पढाई का केंद्र रहा और अग्रेंजो के आने के बाद यह आधुनिक शिक्षण का केंद्र रहा |